ताजा ख़बरेंदेशबड़ी ख़बरेंबिहारब्रेकिंग न्यूजराज्यसमस्तीपुर

पुस्तकालयाध्यक्षों ने मनाई इस आर रंगनाथन की 49वीं पुण्यतिथि

पुस्तकालयाध्यक्षों ने मनाई इस आर रंगनाथन की 49वीं पुण्यतिथि
समस्तीपुर:महंत रामशरण दास विशिष्ट पुस्तकालय मोरदीवा में राष्ट्रीय अध्यापक, पुस्तकालय विज्ञान एवं पुस्तकालय आंदोलन के जनक डॉ एस आर रंगनाथन के 49वीं में पुण्यतिथि समारोह पूर्वक आयोजित की गई, जिसमें एक सेमिनार का आयोजन भी किया गया।

सेमिनार में परिचर्चा का शीर्षक “पुस्तकों का संचरण बच्चों से बुजुर्गों तक” था। समारोह का उद्घाटन पुस्तकालय के सचिव महंत शिवराम दास एवम् मुख्य अतिथि डॉ दुर्गानंद चौधरी के द्वारा दीप प्रज्वलन के साथ किया गया। तदोपरांत महान विभूति पद्मश्री डॉ एस. आर. रंगनाथन के चित्र पर माल्यार्पण एवं पुष्पांजलि अर्पित की गई। सभी आगत अतिथियों का स्वागत करते हुए समारोह की अध्यक्षता करते हुए पुस्तकालयाध्यक्ष सुनील कुमार राय ने कहा कि आज समाज में शैक्षिक अवसान जिस तरह बढ़ रहा है भविष्य मे इसका जोखिम बहुत ही पीडादायक साबित हो सकती है। समाज में पुस्तक और पुस्तकालय के प्रति जो उदासीनता दिख रही है अभिभावकों, बुजुर्गों, स्कूल कॉलेज में पढ़ रहे छात्र- छात्राओं का मूल पुस्तक और पुस्तकालय की तरफ रुझान कम हो जा होता जा रहा है। ऐसी परिस्थिति में संपूर्ण और समीचीन ज्ञान विकसित होना संभव नहीं दिखती। समारोह के मुख्य अतिथि डॉ. चौधरी ने अपने संबोधन में कहा विशिष्ट ज्ञान का मूलभूत आधार पुस्तक होता है, पुस्तकालय में पुस्तक का भंडार होता है, विशिष्ट ज्ञान के लिए हमें पुस्तक का अध्ययन करना अति आवश्यक है,

20211009_193402
IMG-20211010-WA0065

पुस्तक के अध्ययन के बिना ज्ञान से हम बहुत कुछ बड़ा नहीं कर सकते हैं, अगर विशिष्ट ज्ञान प्राप्त करनी है तो हमें मूलभूत पुस्तकों का अध्ययन करना चाहिए, जिसके लिए पुस्तकालय की ओर हमें रुख करना होगा, वही समाज के प्रबुद्ध के प्रबुद्ध व्यक्तियों को पुस्तकालय से समाज के हर वर्ग के लोगों को जोड़ना होगा। सभी अभिभावकों को अपने बच्चे और बुजुर्गों को पुस्तक पढ़ने के लिए प्रेरित करना होगा। शायद इसी चीज का अभाव पुस्तकालय और पुस्तक दोनों का सम्मान कम करता जा रहा है। सरकार भी इसके लिए सकारात्मक सोच नहीं रख पा रही है। सरकार को चाहिए कि हर पंचायत में समृद्ध पुस्तकालय की स्थापना करें और पठन-पाठन का समुचित माहौल बन सके इसकी व्यवस्था करें।

IMG-20211001-WA0086

संबोधन के क्रम में पुस्तकालय अध्यक्ष अभय कुमार ने कहा कि के समृद्ध ज्ञान को जन जन तक पहुंचाने के लिए ठोस कदम उठाने की आवश्यकता है जो एक पुस्तकालय अध्यक्ष ही कर सकते हैं खास तौर से संगठनात्मक ढांचा के विकास के साथ-साथ समृद्ध पुस्तकालय ज्ञानवर्धक पुस्तकें बाल साहित्य और वैज्ञानिक शोध से ओतप्रोत पत्र पत्रिकाएं समाज के प्रत्येक पुस्तकालय को ससमय उपलब्ध कराने की दिशा में ठोस कदम उठाए जाने की गहरी आवश्यकता है। हम उम्मीद करते हैं कि सभी के प्रयासों से अच्छा कार्य हो सकेगा।
पुस्तकालय अध्यक्ष राजीव कुमार ने अपने संबोधन में कहा कि डॉ एस आर रंगनाथन महोदय की 49 वीं पुण्यतिथि के अवसर पर हम सभी पुस्तकालय अध्यक्षों को शपथ लेनी चाहिए कि वर्षों पहले उन्होंने जो सपने देखे थे उनको पूरा करने के लिए हम उनके नक्शे कदम पर चलते हुए समाज के सभी तबके के पास पुस्तकालय और पुस्तक पहुंचे।
मौके पर शत्रुघ्न दास, नीतीश कुमार, सोनू कुमार, रामचंद्र दास, राजीव कुमार, अभय कुमार, शिव नारायण राय, शशि भूषण दास, जगमोहन ठाकुर आदि उपस्थित थे

IMG-20211012-WA0019
IMG-20211012-WA0136
IMG-20211012-WA0100
3

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
Close