ऐतिहासिक घटनाएंताजा ख़बरेंबड़ी ख़बरेंबिहारब्रेकिंग न्यूजमधेपुराराज्यशेखपुरा

मुर्दे को दे दिया कोरोना का टीका, मृत्यु के छह महीने बाद आया मैसेज

●बिहार सरकार ने भूत से पूछा- पंचायत चुनाव कराने क्‍यों नहीं आए? मुर्दे को दिया कोरोना का टीका:
इस वक्त की सबसे बड़ी खबर जो किसी के घर-परिवार से होकर गुजरती है। बिहार में मुर्दों व भूतों पर आफत आई है। चौंक गए तो जान लीजिए कि ऐसा हम नहीं कह रहे, यह सरकारी काम कह रहे हैं। मधेपुरा के बिहारीगंज में एक शिक्षक सुमन कुमार सिंह के निधन के बाद विभाग को इसकी सूचना दे दी गई। इसके बावजूद पंचायत चुनाव की ड्यूटी से गैर हाजिर रहने को लेकर उनसे स्‍पष्‍टीकरण मांगा गया है। ऐसे में सवाल यह खड़ा हो गया है कि क्‍या मृत शिक्षक का भूत चुनाव कराने आता? उधर, शेखपुरा में एक ऐसे बुजुर्ग को कोरोनावायरस के टीका दिए जाने का मैसेज मोबाइल पर आया, जिनकी मौत छह महीने पहले ही हो चुकी है। इन दोनों मामलों ने सरकारी कार्य प्रणाली की पोल खोल दी है।

God grace school bhore gopalganj
IMG-20221120-WA0020
The infinity classes
Sanam computer cctv camera

स्पस्टीकरण देते हुए बताते चले कि मधेपुरा जिले के उदाकिशुनगंज प्रखंड अंतर्गत मजौरा मध्य विद्यालय में सहायक शिक्षक सुमन कुमार सिंह का निधन बीते सात नवंबर को हृदयाघात के कारण हो गया। उनकी ड्यूटी पंचायत चुनाव में 15 नवंबर को जिले के बिहारीगंज में लगी थी। इसे देखते हुए विद्यालय के हेडमास्‍टर अनिल राम ने उनकी मौत की सूचना आठ नवंबर को विभागीय अधिकारियों समेत अन्य सभी को दे दिया। मौत के कारण शिक्षक पंचायत चुनाव की ड्यूटी पर नहीं पहुंचे। हद तो यह है कि इसके लिए पंचायत निर्वाचन कार्मिक कोषांग ने चुनाव ड्यूटी में अनुपस्थित रहने के लिए उनसे स्‍पष्‍टीकरण मांगा है। अब लोग पूछ रहे हैं कि क्‍या स्‍पष्‍टीकरण का जवाब देने मृत शिक्षक का भूत आएगा?

IMG_20221024_173439
2021-02-27

बता दें कि मृत शिक्षक सुमन के भाई राजा कुमार सिंह ने बताया कि सुमन करीब तीन साल से हृदय रोग से ग्रस्‍त थे। उनका पटना में इलाज चल रहा था। करीब 10 दिन पहले उनकी दवा खत्म हो गयी थी, लेकिन समय पर वेतन नहीं मिलने के कारण इलाज में बाधा पहुंची। तीन महीने बाद दीपावली से पहले एक महीने का वेतन आया था, लेकिन वह बैंक लोन की किश्‍त चुकाने में कट गया। मौत के वक्‍त उनके बैंक खाते में केवल 320 रुपये थे।

IMG-20220415-WA0041
IMG-20220905-WA0013

शेखपुरा में मुर्दे को कोरोना का टीका लगाने का मामला प्रकाश में आया है:
शेखपुरा में स्वास्थ्य कर्मियों ने एक ऐसे बुजुर्ग के मोबाइल नंबर पर कोरोनावायरस का टीका लगाने का मैसेज भेजा, जिनकी मौत छह महीने पहले हो चुकी है। जिले के बरबीघा नगर परिषद स्थित सकलदेव नगर मोहल्ला के इस मामले की खबर आने के बाद राज्‍य स्‍वास्‍थ्‍य समिति ने जिले के अधिकारियों को फटकार लगाई। बताया जा रहा है कि यह डाटा एंट्री आपरेटर की गलती थी, जिसके लिए उसपर कार्रवाई की गई है।

निधन के छह महीने बाद मोबाइल पर आया मैसेज, बना चर्चा का विषय:
शेखपुरा में टीवीएस शोरूम के संचालक मनोज कुमार के अनुसार उनके पिता राम अवतार सिंह का निधन छह महीने पहले हो गया था। इसके बाद उनके नाम के सिम वाला मोबाइल मनोज ने अपने पास रखा है। इसी मोबाइल पर बीते गुरुवार को पिता को कोरोना का टीका लगाए जाने का मैसेज आया था। स्वास्थ्य विभाग की एक महिला कर्मी ने काल कर टीका के बारे में पूछताछ की। मनोज के अनुसार उन्‍होंने पिता के निधन की सूचना दी, लेकिन फिर भी मोबाइल पर टीका की दूसरा डोज लेने का मैसेज आ गया।

3
Back to top button
error: Content is protected !!