ताजा ख़बरेंदेशबड़ी ख़बरेंब्रेकिंग न्यूजराज्य

ऐसा कौन सा कुआं है जिसमें गिरने के बाद आदमी बाहर नहीं निकल पाता ?

ऐसा कौन सा कुआं है जिसमें गिरने के बाद आदमी बाहर नहीं निकल पाता ?

Gyanoday
God grace school bhore gopalganj
The infinity classes
Sanam computer cctv camera

एक बार राजा भोज के दरबार में एक सवाल उठा कि ऐसा कौन सा कुआं है जिसमें गिरने के बाद आदमी बाहर नहीं निकल पाता?
इस प्रश्न का उत्तर कोई नहीं दे पाया।

2021-02-27
IMG-20220416-WA0010

आखिर में राजा भोज ने राज पंडित से कहा कि इस प्रश्न का उत्तर सात दिनों के अन्दर लेकर आओ वरना आपको अभी तक जो इनाम धन आदि दिया गया है वापस ले लिए जायेंगे तथा इस नगरी को छोड़कर दूसरी जगह जाना होगा।

lucent mishrabatraha
IMG-20220415-WA0041

छः दिन बीत चुके थे।
राज पंडित को जबाव नहीं मिला था निराश होकर वह जंगल की तरफ गया। वहां उसकी भेंट एक गड़रिए से हुई। गड़रिए ने पूछा -” आप तो राजपंडित हैं, राजा के दुलारे हो फिर चेहरे पर इतनी उदासी क्यों?

यह गड़रिया मेरा क्या मार्गदर्शन करेगा सोचकर पंडित ने कुछ नहीं कहा।
इसपर गडरिए ने पुनः उदासी का कारण पूछते हुए कहा –

“पंडित जी हम भी सत्संगी हैं, हो सकता है आपके प्रश्न का जवाब मेरे पास हो, अतः नि:संकोच कहिए।”

राज पंडित ने प्रश्न बता दिया और कहा कि अगर कल तक प्रश्न का जवाब नहीं मिला तो राजा नगर से निकाल देगा।

गड़रिया बोला – मेरे पास पारस है उससे खूब सोना बनाओ।
एक भोज क्या लाखों भोज तेरे पीछे घूमेंगे।
बस, पारस देने से पहले मेरी एक शर्त माननी होगी कि तुझे मेरा चेला बनना पड़ेगा।

राजपंडित के अन्दर पहले तो अहंकार जागा कि दो कौड़ी के गड़रिए का चेला बनूँ ?
लेकिन स्वार्थ पूर्ति हेतु चेला बनने के लिए तैयार हो गया।

गड़रिया बोला – पहले भेड़ का दूध पीओ फिर चेले बनो।
राजपंडित ने कहा कि यदि ब्राह्मण भेड़ का दूध पीयेगा तो उसकी बुद्धि मारी जायेगी। मैं दूध नहीं पीऊंगा।

तो जाओ, मैं पारस नहीं दूंगा – गड़रिया बोला।
राज पंडित बोला -” ठीक है,दूध पीने को तैयार हूँ,आगे क्या करना है ?”
गड़रिया बोला-” अब तो पहले मैं दूध को झूठा करूंगा फिर तुम्हे पीना पड़ेगा।”

राजपंडित ने कहा -” तू तो हद करता है! ब्राह्मण को झूठा पिलायेगा ?”तो जाओ,गड़रिया बोला।
राज पंडित बोला -” मैं तैयार हूँ झूठा दूध पीने को ।”

गड़रिया बोला- ” वह बात गयी।अब तो सामने जो मरे हुए इन्सान की खोपड़ी का कंकाल पड़ा है, उसमें मैं दूध दोहूंगा, उसको झूठा करूंगा फिर तुम्हें पिलाऊंगा।
तब मिलेगा पारस नहीं तो अपना रास्ता लीजिए।”

राजपंडित ने खूब विचार कर कहा – “है तो बड़ा कठिन लेकिन मैं तैयार हूँ।
गड़रिया बोला-” मिल गया जवाब :-
यही तो कुआँं है:-
• लोभ का
• तृष्णा का
• जिसमें आदमी गिरता जाता है
और फिर कभी नहीं निकलता।

जैसे कि तुम पारस को पाने के लिए इस लोभ रूपी कुएं में गिरते चले गए।

3
Back to top button
Close